गाय और गांव

गायों की प्रचूरता के कारण ही भारतभूमि यज्ञभूमि बनी है

गायों की प्रचूरता के कारण ही भारतभूमि यज्ञभूमि बनी है

गायों की प्रचूरता के कारण ही भारतभूमि यज्ञभूमि बनी है । पर आज हमने गायों को दुर्लक्षित कर दिया है इसी कारण देश के प्राणों पर बन पडी है । गाय के सान्निध्य मात्र से ही मनुष्य प्राणवान बन जाता है । आज हमारे शहरी जीवन से हमने गाय को कोसों दूर कर दिया है । परिणाम स्पष्ट है मानवता त्राही-त्राही कर रही है और दानवता सर्वत्र हावी है ।

अब हरियाणा के शहरों में खुलेंगे गाय हॉस्टल

गाय हॉस्टल

शहरी लोगों के लिए गाय पालने का रास्ता हुआ साफ, नगर निगम व हुडा से स्वीकृति का होगा झंझट खत्म चंडीगढ़। हरियाणा के शहरी क्षेत्रों में रहने वाले लोग भी अब गाय पाल सकेंगे। इसके लिए नगर निगम व हुडा के नियम भी आड़े नहीं आएंगे। हरियाणा सरकार ने गौसेवा आयोग के माध्यम से गायों के लिए हॉस्टल बनाने की तैयारी की है। जहां लोग अपनी गायों को रख सकेंगे।

बुलंदशहर के बब्बन मियां गौ सेवा करते-करते चंद सालों में कैसे बन गए करोड़पति ?

बुलन्दशहर के स्याना में एक मुस्लिम युवक में गौ प्रेम देखने को मिलता है. मुस्लिम युवक ने गौ सेवा करने के लिए बाकायदा गौशाला खोल रखी है. और गायों की निःस्वार्थ सेवा सिर्फ इसीलिए करते है क्यो कि गौ सेवा से उनके कारोबार में दिन दूनी रात चैगनी प्रगति हुई है. बताया जाता है कि गौ सेवा करने के बाद से जैसे उनकी लॉटरी लग गयी. जिसके चलते पहले इस मुस्लिम युवक ने दिल्ली में प्रेशर कुकर बनाने की फैक्ट्री खोली और बाद में जब फैक्ट्री चल पड़ी तो उन्होंने बिल्डर के कार्य में भी कदम रखा. इसमें भी उन्हें सफलता हासिल हुई.

रोजाना दूध गरीबों और दोस्तों में बटवाते हैं 

गौशाला स्थान स्थान पर होनी चाहिए

गौशाला स्थान

सर्व प्रथम गौ हत्या बंद होनी चाहिए और गौशालाये स्थान स्थान पर होनी चाहिए, गौ माता का महत्व सभी को बताना चाहिए के किस प्रकार गौ का महत्व हमारे जीवन में है। गौ संरक्षण होना चाहिए और सिर्फ भारतीय नसल की ही गायो का घी, ढूध और अन्य उत्पादों का प्रयोग करना चाहिए क्योंकि जर्सी, अमेरिकन और अन्य नसल की गाये, गायें नहीं है इन नस्लों के उत्पाद विष के सामान है जो हमारी पीढयो को खोखला कर रहे है। गायो के लिए शोध संस्थान बनाने चाहिए।

Pages