गौ आधारित कृषि

विदेशी नस्ल की गाय को गोमाता नहीं कहा जा सकता

विदेशी नस्ल की गाय को भारतीय संस्कृति
की दृष्टि से गोमाता नहीं कहा जा सकता। जर्सी, होलस्टीन, फ्रिजियन, आस्ट्रियन आदि नस्ल की तुलना भारतीय गोवंश से नहीं हो सकती। आधुनिक गोधन जिनेटिकली इंजीनियर्ड है। इन्हें मांस व दूधउत्पादन अधिक देने के लिए सुअर के जींस से बनाया गया है। अधिक दूध की मांग के आगे नतमस्तक होते हुए भारतीय पशु वैज्ञानिकों
ने बजाय भारतीय गायों के संवर्द्धन के विदेशी गायों व नस्लों को आयात कर एक
आसान रास्ता अपना लिया। इसके दीर्घकालिक प्रभाव बहुत ही हानिकारक हो
सकते हैं। आज ब्राजील भारतीय नस्ल
की गायों का सबसे बड़ा निर्यातक बन गया

सामुहिक गौशाला खोलिये

सामुहिक गौशाला

आज जब आदमी 40- 40 हजार रु. की मोटर सायकल खरीद रहा है तब कुछ लोग थोड़ी- थोड़ी रकम लगाकर 10- 15 देशी गाय खरीदकर सामुहिकरूप से एक जगह उनका पालन- पोषण कर सकते हैं ।। अलग- अलग गाय पालने से यह बेहतर है ।। गौसेवा का पुण्य मिलेगा, शुद्ध दूध भी मिलेगा, आप एक परिवार को रोजगार भी दे सकेंगे और चाहे तो गोबर एवं गौ मूत्र से अन्य छोटे उद्योग भी चलाए जा सकते हैं ।। यह सामुहिक प्रयास समाज में सहकारिता, सहयोग और पारिवारिक भावना बढ़ाने वाला भी होगा... तब क्या विचार है... ?? 

गौशाला प्रबंधन एवं कार्यों की जानकारी एवं संयोग

गौशाला प्रबंधन एवं कार्यों की जानकारी एवं संयोग

श्रीमान सादर नमस्कार।
गौ परिषद राजस्थान एक प्रदेश स्तर की स्वयंसेवी संस्था है। इसके द्वारा गौशाला संबंधित सभी प्रकार की जानकारी निशुल्क उपलब्ध करवाई जाती है जो इस प्रकार हैः-
1. समिति रजिस्ट्रेशन एवं नवीनीकरण, कार्यकारणी चुनाव, समिति के संविधान में संशोधन, समिति का नाम सुधार या नाम परिवर्तन आदि में सहयोग।
2. कार्यवाही लिखना एवं बैठक कार्रवाई लिखने में मदद करना एवं इसके लिए उपयुक्त जानकारी देना, वार्षिक प्रतिवेदन तैयार करने में सहयोग, आवक-जावक रजिस्टर तैयार करवाने में सहयोग, विजिटर बुक तैयार करने में सहयोग आदि।

वैदिक काल में समद्ध खेती का मुख्य कारण कृषि का गौ आधारित होना था।

वैदिक काल में समद्ध खेती का मुख्य कारण कृषि का गौ आधारित होना था।

वैदिक काल में समद्ध खेती का मुख्य कारण कृषि का गौ आधारित होना था। प्रत्येक घर में गोपालन एवं पंचगव्य आधारित कृषि होती थी, तब हम विश्व गुरू के स्थान पर थे। भारतीय मनीषियों ने संपूर्ण गौवंश को मानव के अस्तित्व, रक्षण, पोषण, विकास एवं संवध्र्रन के लिये आवश्यक समझा और ऐसी व्यवस्थाऐं विकसित की थी जिसमें जन मानस को विशिष्ट शक्ति बल तथा सात्विक वृद्धि प्रदान करने हेतु गौ दुग्ध, खेती के पोषण हेतु गोबर-गौमूत्र युक्त खाद, कृषि कार्याे एवं भार वहन हेतु बैल तथा ग्रामद्योग के अंतर्गत पंचगव्यों का घर-घर में उत्पादन किया जाता था। प्राचीन काल से ही गोपालन भारतीय जीवन शैली व अंर्थव्यवस्था का अभिन्न अंग रहा

Pages