गौ समाचार

गाय माता देश में असुरक्षित क्यों है ??

गाय,गौमाता,असुरक्षित

भारत में गाय माता होकर भी असुरक्षित क्यों है? जब इस प्रश्न पर विचार किया जाता है तो पता चलता है कि इसके एक नही अनेक कारण हैं। सर्वाधिक महत्वपूर्ण कारण है कि भारत ने दूसरों को सम्मान देते-देते अपने सांस्कृतिक मूल्यों को या तो भुला दिया या फिर दूसरों को प्रसन्न करने के लिए उन पर अधिक बल नही दिया। इसे कुछ स्वार्थी विदेशी लेखकों ने या विद्वानों ने भारत की परंपरागत सहिष्णुता या उदारता के रूप में महिमामंडित किया और इस महिमामंडन के माध्यम से वे अपना स्वार्थ सिद्घ कर गये। हम भारतीय अपने स्वभाव से सहिष्णु या उदार हैं, इसमें दो मत नही हैं-परंतु हमें कितना सहिष्णु या उदार होना चाहिए?

गाय पालन व्यवसाय के रूप में लाभान्वित...

ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को उनकी आजीविका के साधनों को बढ़ावा देने के लिए कई तरह की योजनाएं केंद्र एवं राज्य सरकार द्वारा संचालित की जाती हैं। इन योजनाओं पर अनुदान का भी प्रावधान रखा गया है। किसान व आम ग्रामीण अनुदान प्राप्त कर आजीविका के साधनों को बेहतर बना सकते हैं।

दुग्ध उत्पादन (डेयरी)

 इस संबंध में पशु सम्बंधित जानकारी उपलब्ध कराई जाती है, और यह योजनायें राज्य पशुपालन विभाग, जिला ग्रामीण विकास अभिकरण, डेयरी को-आपेरेटिव सोसाइटी तथा डेयरी फार्मस के फेडेरेशन को स्थानीय स्तर पर नियुक्त तकनीकी व्यक्ति की सहायता से तैयार की जाती है।

वेदों में 1331 बार गौमाता का जिक्र है ! 5 कारण आखिर क्यों देश में गोहत्या कभी बंद नहीं हो पायेगी

चारों वेदों में गोमाता का सन्दर्भ 1331 बार आया है. ऋग्वेद में 723 बार, यजुर्वेद में 87 बार, सामवेद में 170 बार और अथर्ववेद में 331 बार, गाय का विषय आया है. इन वेद मत्रों में गोमाता की महत्ता, उपयोगिता, वात्सल्य, करूणा और गोरक्षा के उपाय तथा गो से प्राप्त पंचगव्य पदार्थो के उपयोग और लाभ का वर्णन है.वेदों में गाय के लिए गो, धेनु और अघ्न्या ये तीन शब्द आये हैं. वेदों को समझने के लिये छः वेदांग शास्त्रों में से एक निरुक्त शास्त्र है. इसमें वैदिक शब्दों के अर्थो को खोलकर बताया गया है जिसे निर्वचन कहते हैं. ‘हन हिंसायाम् ’ धातु से हनति, हान आदि शब्द बनते हैं जिसका अर्थ हिंसा करना मारना है.

गौरक्षा के लिए 250 किमी की पैदल यात्रा, अब करेंगे अनशन

गौरक्षा के लिए 250 किमी की पैदल यात्रा, अब करेंगे अनशन

बुंदेलखंड में भूख से दम तोड़ रही लाखों गाय को बचाने के लिए इस भीषण गर्मी के मौसम में सरकार ने अब तक किसी तरह की कोई पहल नहीं की है। सरकार तक गौवंश की इस दुर्दशा की तस्वीर पहुंचाने के मकसद से बुंदेलखंड के सामाजिक कार्यकर्ता तारा पाटकर दस दिनों की पैदल यात्रा कर लखनऊ पहुंचे। पाटकर ने महोबा से 5 जून को गौरक्षा पदयात्रा शुरू की थी और 15 जून को लखनऊ पहुंचे। यहाँ उन्होंने ऐलान किया कि 16 जून से एक सप्ताह की भूख हड़ताल शुरू करेंगे। 

Pages