गौ समाचार

आस्था की दृष्टि से देखा जाना चाहिए गाय को : पूज्य श्री गोपाल मणिजी

देश के 375 जिल्लो में गौमाता का प्रचार करते हुए बस्तर पहुचे गौक्रांति अग्रदूत गोपाल मणिजी जी ने रविवार को चेंबर सभागार में धेनु मानस गोकथा कही । उन्होंने गाय को हिन्दुओ की आस्था का प्रतीक बताते हुए कहा कि सरकार गाय को माता नही मानती। वह आंदोलन की भाषा समझती है और हमे लोगो में जनजागरण करना है । गाय को आस्था की दृष्टि से देखा जाना चाहिए । गाय को बचाने के लिए देश में अलग से गौ मंत्रालय हो । और विधालयो में 10 साल तक के बच्चो को गाय का दूध देना अनिवार्य किया जाए । आखिल भारतीय गौ रक्षा द्वारा आयोजित गौ प्रतिष्ठा भारत यात्रा के तहत पूज्य गोपाल मणिजी का बस्तर 376 वा पड़ाव है । धेनुमानस गौ कथा के संद

विजयवाडा में धेनु मानस गौ कथा आयोजित 

गोमाता

विजयवाडा 20 फरवरी ( पर्वत शर्मा ) स्थानीय वनटाउन स्थित श्री सुखदेव  राठी महेश्वरी भवन में गत रात्रि श्री गौमाता गौ सेवा ट्रस्ट द्वारा धेनुमानस गौ कथा का आयोजन किया गया । गत 9 मई 2016 को गंगोत्री से यात्रा प्रारम्भ कर 365वे जिले( कृष्णा ) विजयवाडा में पधारे श्री गोपाल मणिजी महाराज ने कथा सुनाई ,उन्होंने कथा में गौमाता से जुड़े अनेक फायदे बताते हुए कहा की " गौमाता के बोलने से जो माँ की आवाज निकलती है उनको सुनने से कान का बहरापन ठीक हो जाता है और माँ ध्वनि मंदिरो में घण्टी बजाने का काम करती है। गौ कथा में सरकार पर आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि दिल्ली की भारत सरकार गाय को गौमात

भारतवर्ष में प्राचीन काल से ही गोधन को मुख्य धन मानते थे

भारतवर्ष में प्राचीन काल से ही गोधन को मुख्य धन मानते थे

भारतवर्ष में प्राचीन काल से ही गोधन को मुख्य धन मानते थे, और सभी प्रकार से गौ रक्षा और गौ सेवा, गौ पालन भी करते थे। शास्त्रों, वेदों, आर्ष ग्रथों में गौरक्षा, गौ महिमा, गौपालन आदि के प्रसंग भी अधिकाधिक मिलते हैं। रामायण, महाभारत, भगवतगीता में भी गाय का किसी न किसी रूप में उल्लेख मिलता है।

गाय का जहाँ धार्मिक आध्यात्मिक महत्व है वहीं कभी प्राचीन काल में भारतवर्ष में गोधन एक परिवार, समाज के महत्वपूर्ण धनों में से एक है। आज के दौर में गायों को पालने और खिलाने पिलाने की परंपरा में लगातार कमी आ रही है।

जब कैंसर हो जाएगा, तभी गाय माता की याद आएगी ?

जब कैंसर हो जाएगा, तभी गाय माता की याद आएगी ?

पुराणों के अनुसार गौएं साक्षात विष्णु रूप है, गौएं सर्व वेदमयी और वेद गौमय है। भगवान श्रीकृष्ण को कृष्ण अवतार में सारा ज्ञानकोष गो चारण से ही प्राप्त हुआ था।
गुजरात के बलसाड़ नामक स्थान के निकट cancer (कैंसर) अस्पताल में 3 हजार से अधिक कैंसर रोगियों का इलाज पंचगव्य से हो चुका है ! अकेले एक मात्र गाय माता इन्सान की लगभग हर जरूरत और हर समस्या की समाधान हैं !

Pages