Blog

गतांक से आगे....
मालेर कोटला का महाबलिदान

मोदी में अगर दम है तो 3 करोड़ 32 लाख 50 हजार एकड़ ज़मीन है गोचर भूमि की बस इसको खाली कर दो।बिना गोचर भूमि के गौमाता की रक्षा नही हो सकती । गौमाता चारे के अभाव में भूखी मर है गौशाला के अन्दर सडको पर पालीथीन खा रही है और सरकार 500 करोड़ देकर चमत्कार कर रही है। गौमता को तुम्हारा अहसान नही चाहिए मोदी जी बस कत्लखाना बंद कर दो और गोचर भूमि खाली कर दो। गौहत्या करने वालो को मौत की सजा दे दो। विदेशी नस्ल को भारत में बंद कर दो। 5लाख करोड़ कारोबार है गौमांश चमडा और अन्य चीजो से। अगर सरकार 500 करोड़ दे रही है तो कोई एहसान नही कर रही है गौरक्षा आन्दोलन को कमजोर कर रही है। ये वैसे ही बात है जैसे सरकार शराब बेच

साजिस , नेतागिरी , धंधा , प्रेस कार्ड

जय गौमाता जय गोपाल...

2 मिनट का समय निकालकर मेसेज को पूरा पढ़े ..!

मित्रो मोदीजी के एक छोटे से ब्यान के कारण आपियो को एक मौका सा मिल गया है हिन्दुओ को बिखेरने का ,देश तोड़ने का.
---------------------------------------------------------------------
मित्रो आज मुझे एक मैसेज मिला उसमे लिखा है कि मोदीजी ने गौ रक्षको को गुंडा बताया है इसलिए हम एक नई पार्टी बनाने जा रहे है जिसका नाम गाय से जुड़ा हो , और उन्होंने गौ भक्तो से अपील भी है ,की सभी गौ भक्त मीटिंग में पधारे और अपना अपना रजिस्टेशन करवाये....

भारत में गाय का धार्मिक महत्व हिन्दू धर्म की मान्यताओं के अनुसार गाय में देवी-देवता 'वास' करते हैं इसलिए इसे पावन माना जाता है और समाज में इसकी पूजा की जाती है. तो सवाल ये है कि वह गाय कौन सी है जिसे पूजनीय माना जाता रहा है ? क्या दुनिया की सारी गायें उतनी ही पवित्र हैं या फिर सिर्फ़ वही जो अखंड भारत में पैदा हुई हैं.

1.गाय का दुध और घी तुम्हारी तंदुरुसती के लिए बहुत जरुरी है। उसका गोश्त नुकशानदेह और बीमारी पैदा करता है। जबकि उसका दुध भी दवा है l -हजरत मुहम्मद ( नासिहातै हादौ )

2.गाय का दुध बदन की खुबसुरती और तंदुरुस्ती बढाने का बङा जरिया है-हजरत मुहम्मद (बेगम हजरत आयशा से)

3.बिना शक तुम्हारे लिए चौपायो मे भी सीख है।गाय के पेट की चीजो में से गोबर और खुन के बीच में से साफ दुध,जो पीनेवालो के लिए स्वादवाला है,हम तुम्हे पिलाते है।(कुरान शरीफ 16-66)

4.मुगल बादशाह ने बताया है कि “मुस्लमान को गाय नही मारनी चाहिए।ऐसा करना हदीस के खिलाफ है” (मौलाना हयात साहब खानखाना हाली समद साहब)

Pages