गाय के मूत्र में आयुर्वेद का खजाना है

गाय के मूत्र में आयुर्वेद का खजाना है

गाय के मूत्र में आयुर्वेद का खजाना है, इसके अन्दर ‘कार्बोलिक एसिड‘ होता है, जो कीटाणु नासक है | गौमूत्र चाहे जितने दिनों तक रखे, ख़राब नहीं होता है और इसमें कैसर को रोकने वाली ‘करक्यूमिन‘ पायी जाती है | गौमूत्र में नाइट्रोजन ,फास्फेट, यूरिक एसिड, पोटेशियम, सोडियम, लैक्टोज, सल्फर, अमोनिया, लवण रहित विटामिन ए वी सी डी ई, इन्जैम आदि तत्व पाए जाते है | गौमूत्र में मुख्यतः 16 खनिज तत्व पाये जाते है, जो शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढाता है | आयुर्वेद के अनुसार गौमूत्र का नियमित सेवन, कई बीमारियों को खत्म कर सकता है।

Blog Category: 

देशी गाय में वात्सल्य भावना कूट—कूटकर भरी होती है

देशी गाय में वात्सल्य भावना कूट—कूटकर भरी होती है

भारतीय देशी गाय में वात्सल्य भावना कूट—कूटकर भरी होती है। वह अपने बच्चे को जन्म देने के बाद 18 घंटे तक चाटती—दुलारती रहती है। यही कारण है कि सैंकड़ों बछड़ों के बीच भी अपने बच्चे को पहचान लेती है। और तो और, गाय जबतक अपने बच्चे को दूध नहीं पिलाती है, तबतक दूध नहीं देती है। जबकि भैंस या जर्सी गाय चारा खाते ही दूध दूहने की अनुमति दे देती है। यही कारण है कि गाय का दूध पीने वाले बच्चे में काफी शांत और सौम्य आचरण एवं व्यवहार ज्यादा देखे गए हैं।

जानिए कैसे मंदिर जाने से भी ज्यादा पुण्य मिलता हैं गौ दर्शन से

 गौ दर्शन से

जीवन मे पुण्य और लाभ को पाने के लिए जाने कितने लोग क्या-क्या करते हैं| कितने सारे धर्म-कर्म करते हैं| हमारे शास्त्रों मे कितने सारे काम हैं जिन्हें करने से हमें ही नही साथ-साथ कितने लोगों को पुण्य की प्राप्ति होती हैं| लेकिन गरुड़ पुराण मे ऐसी कई चीज़ें बताई गई हैं जिन्हें मात्र देखने से या यू कहें की जिनके दर्शन मात्र करने से हमें पुण्य की प्राप्ति होती हैं| इसलिए हम ऐसी ही कुछ चीज़ों के बारे मे बताएँगे जिनके दर्शन मात्र से आप, हम और सारे लोग पुण्य की प्राप्ति कर सकते हैं और साथ-साथ लाभ की भी प्राप्ति  कर सकते हैं|

गरुड़ पुराण मे एक श्लोक लिखा हुआ हैं-

 

Pages