Blog

यदि आप कालोनी में या शहर में रहते हैं... आपका दो कमरे का मकान है... या आप कहीं चौथी मंजिल पर रहते हैं, तो भी आप गौपालन कर सकते हैं ।। भारतीय गौवंश के संरक्षण में आप भी अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं... यह काम आर्थिक सांस्कृतिक और आध्यात्मिक दृष्टि से तो महत्वपूर्ण हैही... स्वास्थ्य रक्षण का बेहतरीन काम भी सामुहिक रूप से गौशाला खोलकर किया जा सकता है... 

एक बात.. सौ टके की... 

योगगुरु बाबा रामदेव ने कहा कि सारी सृष्टि प्रभु का रूप है। सृष्टि में एक ही प्रभु हैं। आह्वान किया कि सृष्टि में एक ही प्रभु देखने का संकल्प लें। एलान किया कि वह 500 करोड़ खर्च करके गौशाला (नंदीशाला) खोलेंगे और 5 लाख ऐसी बछिया तैयार करेंगे जो एक बार में 20-25 किलो दूध देंगी।

राष्ट्रीय डेयरी अनुसंधान संस्थान के पशु शरीर क्रिया विज्ञान के वैज्ञानिकों के अनुसार आजकल पशुपालक दूध निकालने की प्रक्रिया में आक्सीटोसीनहार्मौन्स इंजेक्शन का बहुतायत से प्रयोग कर रहे हैं ।। यह इंजेक्शन सस्ता और लगाने में आसान होता है, इसके लगाने से पशु 20 प्रतिशत तक अधिक दूध देता है ।। अतः आजकल इसका अंधाधुंध उपयोग हो रहा है परन्तु इससे स्वास्थ्य भी तेजी से बिगड़ते जा रहा है ।। 

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पहल पर राजधानी पटना में बेसहारा और सड़कों पर लावारिस विचरण करने वाली गायों के लिए गौशाला बनाई गई है, जहां चारा और इलाज की व्यवस्था की गई है। पटना के दीदारगंज स्थित 'श्रीकृष्ण गौशाला' में अब तक 22 गायों को पहुंचाया गया है। नीतीश कुमार ने पिछले दिनों गौरक्षकों को लावारिस गायों की देखभाल करने की नसीहत दी थी। उन्होंने कहा कि था कि जल्द ही पटना में एक गौशाला का निर्माण कराया जाएगा। 

आज जब आदमी 40- 40 हजार रु. की मोटर सायकल खरीद रहा है तब कुछ लोग थोड़ी- थोड़ी रकम लगाकर 10- 15 देशी गाय खरीदकर सामुहिकरूप से एक जगह उनका पालन- पोषण कर सकते हैं ।। अलग- अलग गाय पालने से यह बेहतर है ।। गौसेवा का पुण्य मिलेगा, शुद्ध दूध भी मिलेगा, आप एक परिवार को रोजगार भी दे सकेंगे और चाहे तो गोबर एवं गौ मूत्र से अन्य छोटे उद्योग भी चलाए जा सकते हैं ।। यह सामुहिक प्रयास समाज में सहकारिता, सहयोग और पारिवारिक भावना बढ़ाने वाला भी होगा... तब क्या विचार है... ?? 

Pages