Skahore's blog

गौ - चिकित्सा भाग - 2 ( मूत्र रोग )

मूत्ररोग ( पेशाब सम्बन्धी रोग )
=================================

१ - पेशाब का रूक- रूककर आना :-
######################

गुर्दे की कमज़ोरी के कारण और दाने के साथ पत्ती ,रेत अधिक खा जाने से यह रोग हो जाता है । सूखी घास अधिक खाने से और बाद में पानी पीने से भी यह रोग हो जाता है । इस रोग में पशु अधिक बेचैन रहता है । उसकी पेशाब रूक जाती है । वह पेशाब करने की बार - बार चेष्टा करता है । बार- बार उठता है । परन्तु बार - बार यत्न करने पर भी उसे पेशाब नहीं होती । रोगी पशु पाँव चौड़े करता हैं ।

वेदों में लिखा है कि गाय की हत्या करने वाले की जान ले लोः पाञ्चजन्य

वेदों में लिखा है कि गाय की हत्या करने वाले की जान ले लोः पाञ्चजन्य

गोसेवा इतनी की बीवी को भी छोड दिया ,

मुस्लिम युवक की बीवी ने कहा,उसे चुनो या गाय ,उत्तरप्रदेश में एक मुस्लिम को अपनी 14 गायो से इतना प्यार था की उसके लिए अपनी पत्नी को भी छोड़ दिया , मूलरूप से कानपूर देहात के रहने वाले अफक अली उर्फ़ मुन्ना ने बताया की जब उनकी पत्नी ने गायो या पत्नी मेसे किसी एक को चुनने को कहा तो उन्होंने गायो को चुन लिया हालांकि यह कहानी 13 वर्ष पहले की है लेकिन आज जब गौरक्षक समूहों ने बीफ खाने और गायो के मसले पर मुस्लिमो पर निशाना साधा तब अफक ने इस वाकए को साझा किया, वर्ष 2001 में शादी के कुछ दिन बाद ही अफक की बीवी अफरोज उनका फैसला सुनते ही घर छोड़कर चली गयी । पंचायत ने दोनो

जानिये क्यों पास नहीं हुआ आज तक गौहत्या रोकने का कोई बिल ??

माननीय प्रधानमंत्री आदरणीय मोदी जी से निवेदन है कि अब वे अपनी गौमाता की रक्षा और सेवा के लिए शीघ्राति शीघ्र उपरोक्त बातों को संज्ञान में लेते हुए निश्चय ही ठोस कदम उठायेंगे। अब आपको तय करना है की  गौ ह्त्या रोकने का बिल संसद मे कैसे पास करवाएँगे ??

Pages