गौभक्त विचार

गोवरधन धारी की दुलारी गौमाँ

गोवरधन धारी

गोवरधन धारी की दुलारी गौ माँ 
साधू संतो मुनिओ की पियरी गौ माँ
मानव पर सदा उपकारी गौ माँ
कदम कदम सुखकारी हे गौ माँ
फिर भी दुखी हमारी गौ माँ
संकट में आज हमारी गौ माँ

कातर निगाहे हमें देख रही हे 
फेली हुई बाहे हमें देख रही हे
चीखे और आहे हमें हमें देख रही हे
कतल घर की राहे हमें देख रही हे

हम चारा और पानी का प्रबंध करेंगे 
गौ हत्या हम हर हाल में बंद करेंगे 
हमें ही बचानी हे हमारी गो माँ 
संकट में आज हमारी गो माँ' 
कतल खाने में उसे लाया जाता हे 
तीन चार दिन उसे भूखा रखा जाता हे

गौपूजन से हो जाता है 33 करोड़ देवी-देवता का पूजन

गौपूजन से हो जाता है 33 करोड़ देवी-देवता का पूजन

सृष्टि में 33 करोड़ देवी-देवताओं का वास है। यदि एक दिन में एक देवता की पूजा भी करें, तो एक जीवनकाल में सभी देवी-देवताओं की पूजा करना असंभव है। धरा पर गौमाता ऐसा जीव है, जिसमें शास्त्रों के अनुसार 33 करोड़ देवी-देवता वास करते हैं। गौमाता के पूजन से सभी देवी-देवताओं का पूजन हो जाता है।

ये विचार आरएसएस के कुक्षी जिला संघचालक दत्तेश शर्मा ने गौकुल धाम गौशाला में रविवार रात आयोजित गौरक्षा संगोष्ठी में व्यक्त किए। 

गाय काटने वालो का क्यों ना सर कलम कर दिया जाये

" गाय " जिसे हमारे धर्म (हिन्दू) में माता का दर्जा प्राप्त है। अब माता क्यों कहा जाता है ये सबको पता है। भारत कि गौरवशाली परंपरा में गाय का स्थान सबसे ऊँचा और अत्यन्त महत्वपूर्ण रहा है। गाय माता की महिमा पर महाभारत में एक कथा आती है। यह कथा रघुकुल के राजा नहुष और महर्षि च्यवन की है, जिसे भीष्म पितामह मे महाराजा युधिष्ठिर को सुनाया था।

 

हम गौ सेवा कैसे करें?

हम गौ सेवा कैसे करें?

हम गौ सेवा कैसे करें?
हम गौ सेवा कैसे करें , कई लोगों के मन में यह सवाल रहता है ,
इसकेलिए यह जानना जरुरी है की हम गौ सेवा निम्न प्रकार से कर सकते है :-

Pages